हमर पुरखा: स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बिसाहू दास महंत को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.महंत ने दी श्रद्धांजलि..राज्यभर में कल कई आयेाजन

हमर पुरखा: स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बिसाहू दास महंत को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, विधानसभा अध्यक्ष डॉ.महंत ने दी श्रद्धांजलि..राज्यभर में कल कई आयेाजन

बिगुल

रायपुर. छत्तीसगढ़ आज स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बिसाहू दास महंत की जयंती मना रहा है. हसदेव बांगो सिंचाई परियोजना महंतजी के सपनों का साकार रूप है। उन्होंने बुनकरों को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई. राज्य सरकार उनके सम्मान में श्रेष्ठ बुनकरों को हर साल पुरस्कृत करती है. 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वर्गीय बिसाहू दास महंत की जयंती पर उन्हें नमन किया। उन्होंने लोकप्रिय राजनेता स्वर्गीय श्री बिसाहू दास महन्त को स्मरण करते हुए कहा कि उनका पूरा जीवन जनसेवा से जुड़ा रहा। श्री महन्त ने अविभाजित मध्यप्रदेश में विधायक तथा मंत्री के रूप में प्रदेश के विकास के लिए अपनी अमूल्य सेवाएं दी। हसदेव बांगो सिंचाई परियोजना उनके सपनों का साकार रूप है। उन्होंने लोगों की बेहतरी के लिए क्षेत्र में खेती-किसानी, सिंचाई तथा सड़कों के कार्यों को बखूबी अंजाम दिया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि स्वर्गीय श्री बिसाहू दास महन्त के सपनों के अनुरूप नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण की दिशा राज्य सरकार आगे बढ़ रही है। 

छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने अपने पिता स्व.बिसाहू दास महंत की जयंती के अवसर पर स्मरण कर विनम्र श्रद्धांजलि की अर्पित। डॉ महंत ने कहा कि पिता स्व. श्री बिसाहू दास महंत के आशीर्वाद और मार्गदर्शन के चलते समाज सेवा, जनसेवा के कार्य करने का हरसंभव प्रयास करता हूँ और नाम के अनुरूप चरणों का दास बने रह के कार्य करता हूँ।

बता दें कि बिसाहू दास महंत मध्य प्रदेश के लिए एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वे मध्यप्रदेश की प्रथम कैबिनेट के मंत्री रहे हैं, वह राज्य में कांग्रेस द्वारा निर्मित सबसे सफल विधायक थे, और उन्होंने बाराद्वार का प्रतिनिधित्व किया, कोषा को व्यापार और राष्ट्रीय पटल के साथ साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी नई पहचान दिलाने का कार्य किया। स्व. महंत जीवनभर जनसेवा से जुड़े रहे। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के साथ ही उनकी छवि एक सफल राजनेता की रही है। वे अविभाजित मध्यप्रदेश में विधायक तथा मंत्री के रूप में प्रदेश के विकास के लिए समर्पित रहे। उन्होंने क्षेत्र में खेती-किसानी, सिंचाई तथा सड़कों के निर्माण से लोगों की बेहतरी के लिए काम किया। जिसे आज कांग्रेस भूपेश सरकार राज्य के श्रेष्ठ बुनकरों को हर साल पुरस्कृत करती है। यह सम्मान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. बिसाहू दास महंत की स्मृति में दिया जाता है। 



राज्यभर में शुरू हुए आयोजन 

स्व श्री बिसाहू दास महन्त उद्यान सकती में आयोजित सत्याग्रह आंदोलन मंें स्थानीय नागरिक शामिल हुए और कल जयंती मनाने का संकल्प लिया. 

इसी तरह स्व. बिसाहु दास महंत स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बिसाहू दास महंत को याद किया जायेगा. 

पिछले साल ही सक्ती में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व श्री बिसाहू दास महंत जी की प्रतिमा का अनावरण किया गया था. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था कि छत्तीसगढ़ के अस्मिता के प्रतीक स्वर्गीय श्री बिसाहू दास महंत जी जनप्रिय नेता थे। वे चार बार मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री तथा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे।