ब्रेकिंग : बोरवेल हीरो राहुल साहू अपने गांव पहुंचा..स्वागत के लिए उमड़ पड़े लोग..पत्रकार अनिल द्विवेदी ने केन्द्र सरकार से राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार देने की मांग की..देखिए वीडियो

ब्रेकिंग : बोरवेल हीरो राहुल साहू अपने गांव पहुंचा..स्वागत के लिए उमड़ पड़े लोग..पत्रकार अनिल द्विवेदी ने केन्द्र सरकार से राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार देने की मांग की..देखिए वीडियो

बिगुल
रायपुर. छत्तीसगढ़ का बोरवेल हीरो 11 वर्षीय राहुल साहू आज हास्पिटल से डिस्चार्ज होकर अपने गांव जाजगीर के पिहरदी स्थित घर पहुंच गया जहां पूरे गांव ने उसका जोशोखरोश के साथ स्वागत किया. पूरे गांव में जश्न का माहौल है.

इसके पूर्व कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला ने अपोलो अस्पताल बिलासपुर पहुँचकर राहुल साहू के स्वास्थ्य की जानकारी ली. उपचार के बाद लगभग पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद उन्होंने स्वागत के साथ राहुल को अपने जिले जांजगीर-चाम्पा के ग्राम पिहरीद के लिए रवाना किया.

जानते चलें कि छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के अपने गांव के बोरवेल में 80 फीट नीचे फंसे 11 साल के राहुल साहू को 90 घंटे के बड़े ऑपरेशन के बाद सुरक्षित निकाल लिया गया था. इस दौरान उसने बडे साहस और धैर्य का परिचय दिया. राहुल को लगभग एक सप्ताह तक अस्पताल में रखा गया जहां उसका ईलाज चला.

राहुल साहू रेस्क्यू ऑपरेशन' पर एक डॉक्यूमेंटरी फिल्म भी बनाई जाएगी, जिससे रेस्क्यू टीम के इस अनुभव को प्रदेश और देश के लोग समझ सकें और भविष्य में ऐसी होने वाली घटनाओं को रोकने के लिए सहायक हो। राहुल की पढ़ाई-लिखाई और आगे के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी।

राहुल को इस बार का राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार मिले : अनिल द्विवेदी
वरिष्ठ पत्रकार अनिल द्विवेदी ने मांग की है कि केन्द्र सरकार को दिव्यांग राहुल साहू को देश के राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार से नवाजा जाना चाहिए ताकि उसके साहस और धैर्य की कहानी को देश का बच्चा बच्चा जान सके. उसके साथ गढ्ढे में 104 घंटे तक एक सांप और मेढक उसके साथी थे. राहुल को वीरता पुरस्कार दिलाने के लिए भाजपा सांसदों को पहल करना चाहिए. हालांकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उस पर डाक्यूमेंट्री बनाने का निर्देश दिया है जिसे जल्द ही पूरा किया जाएगा.

See video :<bpt>