जिंदल यूनिवर्सिटी की अभूतपूर्व छलांग..दुनिया के 500 विश्वविद्यालयों में शामिल.. ग्रेजुएट एम्पलॉयबिलिटी रैंकिंग में हासिल किया स्थान

जिंदल यूनिवर्सिटी की अभूतपूर्व छलांग..दुनिया के 500 विश्वविद्यालयों में शामिल.. ग्रेजुएट एम्पलॉयबिलिटी रैंकिंग में हासिल किया स्थान

बिगुल
रायपुर. हरियाणा के सोनीपत में स्थित ओपी जिन्दल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (ओपीजेजीयू) ने विश्व स्तर पर अभूतपूर्व छलांग लगाई है। वह क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2022 की ग्रेजुएट एम्पलॉयबिलिटी रैंकिंग में दुनिया के 500 विश्वविद्यालयों में शामिल हो गई है।

यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलाधिपति श्री नवीन जिन्दल ने इस उपलब्धि के लिए पूरी टीम को बधाई दी है और कहा है कि 30 सितंबर को ओपी जिन्दल ग्लोबल यूनिवर्सिटी की स्थापना की 12वीं वर्षगांठ के अवसर पर यह एक उत्साहवर्धक उपलब्धि है।

यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक ओपीजेजीयू मानविकी, कला, साहित्य और प्रबंधन संकायों को समर्पित (नॉन स्टेम) एकमात्र भारतीय यूनिवर्सिटी है, जिसे क्यू वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2022 में यह स्थान प्राप्त हुआ है। इस उपलब्धि पर हर्ष व्यक्त करते हुए नवीन जिन्दल ने कहा कि हम 30 सितंबर 2021 को ओपीजेजीयू की 12वीं वर्षगांठ मनाने जा रहे हैं और इससे बेहतर समय क्या हो सकता है, जब यह महत्वपूर्ण उपलब्धि हमें प्राप्त हुई। यह उस दृष्टिकोण और सपनों का सच्चा प्रतिबिंब है, जिस कारण 2009 में ओपीजेजीयू की स्थापना हुई।



श्री जिन्दल ने कहा कि यह सम्मान वास्तव में ओपीजेजीयू के संकाय सदस्यों, छात्रों और कर्मचारियों के उत्कृष्ट योगदान का परिणाम है और जो यह साबित करता है कि एक उत्कृष्टता केंद्र के रूप में स्थापित करने के प्रयास से ओपीजेजीयू ने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में अनेक सफल प्रतिभाएं दी हैं, जो समाज निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान कर रहे हैं।

ओपीजेजीयू के संस्थापक कुलाधिपति ने कहा कि कोविड-19 महामारी के इस चुनौतीपूर्ण वर्ष में यह एक अनुपम उपलब्धि है क्योंकि  विशेष रूप से वैश्विक स्तर पर छात्रों के रोजगार को इस महामारी ने बुरी तरह प्रभावित किया। यह देखकर गर्व हो रहा है कि ओपीजेजीयू ने इस महामारी के दौरान भी छात्रों को विश्वस्तरीय रोजगार के अवसर प्रदान करने की सभी चुनौतियों को पार कर लिया है।